चैतन्य शर्मा

My photo
मैं चैतन्य एक बहुत अच्छा बच्चा हूँ | मैं 9 साल का हूँ | मुझे ड्राइंग-कलरिंग करना बहुत पसंद है | मैं क्लास IV में पढ़ता हूँ और माँ को कभी परेशान नहीं करता | मुझे डांस करना बेहद पसंद है | स्कूल में मुझे सब बहुत पसंद करते हैं | यह ब्लॉग 5 साल पहले मेरी माँ डॉ. मोनिका शर्मा ने बनाया था । अब मैं खुद अपने पोस्ट ब्लॉग पर शेयर करता हूँ । इस ब्लॉग पर मैं अपनी सारी बातें शेयर करूंगा |

Tuesday, November 30, 2010

डायेनासोर्स अलाइव....!

  कुछ दिन पहले ममा पापा मुझे जू लेकर गए | वहां सभी तरह के जानवर थे पर खास बात यह थी की वहां बहुत सारे डायेनासोर्स भी थे | वो भी अलाइव | मुझे तो इनके पास जाकर भी डर लग रहा था | फिर धीरे धीरे हिम्मत जुटाई | इतने बड़े बड़े डायेनासोर्स जंगल में जगह छुपे हुए थे | वहां इन डायेनासोर्स को अलाइव इसलिए कहा जाता  है क्योकि जैसे ही  कोई इनके पास जाता या इनके  सामने  से गुजरता तो जोर-जोर से इनकी डरावनी आवाज़ आने लगती | इनकी गर्दन हिलने लगती और ऐसा महसूस होता जैसे आप असली डायेनासोर्स  को देख रहे हों |         यानि कि जैसे  जीते -जागते  डायेनासोर्स आपके सामने  खड़े  हों  | वहां कई अलग अलग तरह के डायेनासोर्स  थे | सभी अलग अलग आवाज़ निकाल रहे थे | 
इन्हें देखिये कैसे छुप  के खड़े हैं....


यह है क्यूट  डायनासोर.......


इन्हें देखकर काफी डर लगा मुझे.....



यह देखिये ..... कूदने  को तैयार .....



इनका लुक है थोड़ा अलग ......




 अब देखिये .... लग रहे हैं ना असली .....


25 comments:

केवल राम said...

वाह -वाह...क्या तारीफ करूँ आपकी ........शुभकामनायें

यशवन्त said...

बहुत दिन बाद तुम्हें पढने को मिला चैतन्य! बहुत अच्छा लगी तुम्हारी जू की ये ट्रिप...और बातों बातों में तुमने हमें भी डायनासोर के बारे में बहुत कुछ बता दिया.

With Love-

abhi said...

वाह चैतन्य तुम तो बहादुर निकले :)
अंतिम वाली तस्वीर में सही में डायनासोर असली लग रहा है..

aman agarwal "marwari" said...

wow chaitan kitni acchi jagah hai badha maja kiya hoga na and thank you hame ghar baithe itne sare dinasour dikhane ke liye

Akshita (Pakhi) said...

अले वाह, ये सब तो सच्ची-मुच्ची के लग रहे हैं. अच्छा लगा इन सबको देखकर.

_______________________
'पाखी की दुनिया ' में पाखी पहुँची पोर्टब्लेयर....

मनोज कुमार said...

बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!

Vijai Mathur said...

Chaitanya ,
Dara mat karo ,tum to bahadur ho.

shalini kaushik said...

dar to ham bhi gaye,bas jab ye socha ki tum laye ho to aankh khol kar dekh liya.bahut khoob chaitanya....

प्रवीण पाण्डेय said...

देखकर तो हम भी डर ही गये।

आशीष मिश्रा said...

सुन्दर प्रस्तुति चेतन .........

"अभियान भारतीय" said...

वाह चैतन्य जी आपका ब्लॉग तो बड़ा अच्छा है और उससे भी अच्छे हैं आप......
इस ब्लॉग में आकर आत्मीय प्रसन्नता हुई एवं बचपन की यादें तजा हो गयी, मै चैतन्य के उज्जवल भविष्य की कामना करता हूँ |

लेखिका - Rashmi Swaroop said...

मुझे तो बहुत डर लग रहा है भई!
मैं ये पिक्स देख तो रही हूँ पर तुम प्लीज़ साथ में रहना चैतन्य…

चैतन्य शर्मा said...

@ केवल भैया
@ यशवंत भैया
थैक्स .... कभी कभी हम बच्चे भी बीजी हो जाते हैं .......


@अमन भैया
@ पाखी
हाँ मज़ा तो बहुत आया ....
हाँ देखो लग रहे हैं ना असली ........


@ मनोज अंकल
@ विजय अंकल
थैंक्स मेरे ब्लॉग पर आने के लिए.... अब नहीं डरूंगा मैं.....

चैतन्य शर्मा said...

@ शालिनी दी
मुझ पर इतना भरोसा है आपको..... अरे वाह बहुत खुश मैं यह जानकर.....

@ प्रवीण अंकल
अरे डरिये नहीं मैं हूं ना...


@अभी भैया @ आशीष भैया
थैंक्स .....आपको अच्छे लगे...

@भारतीय अभियान
@ रश्मि दी
थैंक्स मेरे ब्लॉग पर आने के लिए.....
अरे डरिये नहीं मैं हूं ना..... साथ ही हूं.....

रानीविशाल said...

बहुत सुन्दर तस्वीरें ......अब तो वहाँ बहुत सर्दी बड़ गई होगी . आउटिंग करना तो कठिन ही होगा .
प्यार
अनुष्का

शिवम् मिश्रा said...


बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

Manish said...

अरे आप तो सचमुच के बच्चे हो... बच्चे तो हम भी हैं लेकिन जरा पुराने हो गये.. :) लेकिन कोई डिफरेंस नही दिख रहा.. आप डायनासोर के साथ मस्ती कर रहे हैं और इधर यही डायनासोर मेरी मस्ती पर ग्रहण लगा दिये हैं... एक्जाम आने वाले हैं.. और उनमें यही सब आयेंगे.. आपको पता है? डायनासोर्स शाकाहारी भी होते थे और कुछ माँसाहारी भी होते थे.. क्लास रूम में हमारे सर जी बता रहे थे कि कैसे ये बेचारे विलुप्त हो गये... :) बहुत पुरानी बात है लगभग १७६ मिलियन वर्ष पहले... खैर ये सब लोचा मेरे लिए रहने दो... आप बस ऐसे आनन्द लो... तुम्हारी तस्वीर से लगता है कि बिल्कुल अपनी मम्मी पर गये हो.. :)

anklet said...

चैतन्य ur photo slide is very nice. ur look very cute

Anand Rathore said...

hey am back aur aate hi apne raja beta ki itni sunder sunder pics dekhi.. very happy...

Gourav Agrawal said...

प्रिय चैतन्य

बहुत अच्छा लगा तुम्हारे साथ ये वर्चुअल यात्रा करके, मोर्निंग गुड हो गयी, मैं भी कुछ चलते फिरते डायेनासोर्स देखने का लिंक दे रहा हूँ इस कमेन्ट में
इन पर बनी फिल्मों पर एक पोस्ट बनाने का इरादा था लेकिन नहीं बना पाया | बहुत समय पहले दो फ़िल्में देखी थी "जुरासिक पार्क" और "द लोस्ट वर्ल्ड" ये पोस्ट पढ़ कर उनकी याद ताजा हो गयी ..... या तो ये फ़िल्में देख चुके होंगे या देखना जब बड़े हो जाओ , बहुत मजा आएगा .. सच्ची |
सस्नेह
गौरव भैया

http://www.youtube.com/watch?v=Bim7RtKXv90
http://www.youtube.com/watch?v=878A6J2vbLA

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बढ़िया चित्र हैं जी!
--
प्यार भरा आशीर्वाद!
--
आपको पोस्ट की चर्चा बाल चर्चा मंच पर भी है!
http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/12/30.html

Coral said...

बहुत सुन्दर... मै भी बहुत दिनों बाद आई हू तुम्हारे ब्लॉग में !

निर्मला कपिला said...

बेटा तुमने तो डरा ही दिया। डायनासुर देख कर बहुत डरती हूँ। आजकल बहुत डराने लगे हो क्या बात है? चलो खुश रहो। आशीर्वाद।

चैतन्य शर्मा said...

@ अनुष्का
हाँ यहाँ तो अभी बहुत ठण्ड है......


@शिवम् अंकल
थैंक्स... मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए.......


@मनीष भैया
अरे आप तो इन विशाल प्राणियों के बारे में बहुत कुछ जानते हैं......

@Anklet ..... थैंक्स

@ आनन्द अंकल
Hurrrrre... i m so happy to see you..... this time with a different look.....

चैतन्य शर्मा said...

@ गौरव भैया
बड़े अच्छे लिनक्स भेजे हैं मज़ा आया इन्हें चलते फिरते देख....थैंक्स

@मयंक अंकल
धन्यवाद मेरी पोस्ट कि चर्चा करने के लिए

@Coral
हूं..... क्या चिन्मयी दी ने आपको बीजी कर रखा है.......


@निर्मला आंटी
अरे डरिये नहीं मैं हूं ना...... अच्छा लगा आप आयीं......

Post a Comment

There was an error in this gadget