चैतन्य शर्मा

My photo
मैं चैतन्य एक बहुत अच्छा बच्चा हूँ | मैं 9 साल का हूँ | मुझे ड्राइंग-कलरिंग करना बहुत पसंद है | मैं क्लास V में पढ़ता हूँ और माँ को कभी परेशान नहीं करता | मुझे डांस करना बेहद पसंद है | स्कूल में मुझे सब बहुत पसंद करते हैं | यह ब्लॉग 5 साल पहले मेरी माँ डॉ. मोनिका शर्मा ने बनाया था । अब मैं खुद अपने पोस्ट ब्लॉग पर शेयर करता हूँ । इस ब्लॉग पर मैं अपनी सारी बातें शेयर करूंगा |

Monday, May 30, 2011

मेरा आर्ट वर्क.....

मेरी इस बुक में पहले से कई चित्र बने हुए हैं | बस उनमे रंग भरना  होता है |   इसलिए यह मेरे लिए बहुत आसान है | मुझे इन चित्रों में  रंग भरने में बड़ा अच्छा लग रहा है और मैं अच्छे से ब्रश चलाना सीख रहा हूँ |  














29 comments:

सुज्ञ said...

इसी तरह जीवन में नित नये रंग भरो!! शुभकामनाएँ

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

Excellent!

शालिनी कौशिक said...

kafi kushal kalakar lag rahe ho chaitnya aap.ye kam karne me aanand hi bahut aata hai lage raho.

Patali-The-Village said...

बहुत सुन्दर चैतन्य जी लगे रहो | धन्यवाद|

Shah Nawaz said...

अरे वाह.... आपने तो बड़ी ख़ूबसूरती के साथ रंग भरे हैं...

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत बढ़िया चैतन्य!

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

आपके ड्राईंग ने तो मेरा मन मोह लिया !

: केवल राम : said...

बहुत सुंदर है भाई ....आपकी यह कला भी ...आनंद आ गया ..!

रावेंद्रकुमार रवि said...

कभी अपने द्वारा बनाए गए चित्रों में भी रंग भरना!
--
तब इससे भी ज़्यादा आनंद आएगा!

smshindi By Sonu said...

प्रिय चैतन्य वाह... बधाई .

G.N.SHAW said...

चैतन्य जी बड़े अच्छे कलाकार हो जी !अति सुन्दर चित्रकारी !

शिखा कौशिक said...

bahut achchhe rang bhare hain .badhai .

Er. Diwas Dinesh Gaur said...

हाँ इस काम में मज़ा तो बहुत आता है...कभी किसी समय मैं भी खूब पेंटिंग करता था...पर अब तो शायद दस-बारह साल हो गए ब्रश को हाथ में लिए...
चैतन्य आप इसी प्रकार अपने जीवन में भी रंग भरते रहो...

प्रतुल वशिष्ठ said...

चैतन्य जी, कुछ सवाल पूछूँ ?
यदि सूरज की रोशनी में हरे रंग की कोई वस्तु देर तक रहे ... तो वह पीली क्यों हो जाती है?
और यदि सूरज की रोशनी में पीले रंग की कोई वस्तु देर तक रहे ... तो वह काली क्यों हो जाती है?
और यदि काली वस्तु का रंग उड़ता है ... तो वह सफ़ेद क्यों हो जाता है?
प्रकृति तो रंग-परिवर्तन का खेल खेलती रहती है .. आप गर्मियों की छुट्टियों में कौन-कौन से खेल खेल रहे हो? बताओ तो.. या मम्मी केवल ब्लॉग की सजावट के लिये आपसे बाल-मजदूरी करवाती रहती हैं. :)
[चैतन्य के बहाने से ... ]

Sawai Singh Rajpurohit said...

प्रिय चैतन्य वाह
अच्छी है और बनाओ

Roshi said...

chiatanya bahut sunder colouring ki hai
keep it up.....................
may god bless u

राज भाटिय़ा said...

अले अले यह तो बहोत बोत सुंदर लगा जी. बहुत सा प्यार

प्रवीण पाण्डेय said...

हम पहले ही कहते थे कि आप बड़े कलाकार हैं।

Kashvi Kaneri said...

बहुत ही सुन्दर और प्यारी-प्यारी ड्राईंग बनाते हो……….चैतन्य

Chinmayee said...

बहुत सुन्दर ...

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

अरे वाह चैतन्य जी क्या टोपी वाले और ये जादू की छड़ी है क्या ? खूब पक्का रंग भरना बाद में मेरी भी फोटो बनाना -

शुभ कामनाएं

शुक्ल भ्रमर ५

Richa P Madhwani said...

http://shayaridays.blogspot.com

विरेन्द्र सिंह चौहान said...

Bahut bdhiya.......lage raho 'Babuaa'........

Er. सत्यम शिवम said...

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (04.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
चर्चाकार:-Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)
स्पेशल काव्यमयी चर्चाः-“चाहत” (आरती झा)

Vijai Mathur said...

चैतन्य आपकी सभी आर्ट्स अच्छी और सुन्दर हैं.
मेरे ब्लाग पर शुभकामनाएं व्यक्त करने हेतु बहुत-बहुत धन्यवाद.

Kailash C Sharma said...

बहुत सुन्दर चित्र...शुभकामनायें..

चैतन्य शर्मा said...

आप सबके प्यारे कमेट्स के लिए थैंक यू........

chirag said...

purani yaadein taaza kar di...
i always enjoyed filling colors in my drawing book when i was in school

गौरव शर्मा "भारतीय" said...

चैतन्यजी आपकी चित्रकारी भी आप ही की तरह प्यारी है......शुभकामनायें !!

Post a Comment

There was an error in this gadget