चैतन्य शर्मा

My photo
मैं चैतन्य एक बहुत अच्छा बच्चा हूँ | मैं 9 साल का हूँ | मुझे ड्राइंग-कलरिंग करना बहुत पसंद है | मैं क्लास IV में पढ़ता हूँ और माँ को कभी परेशान नहीं करता | मुझे डांस करना बेहद पसंद है | स्कूल में मुझे सब बहुत पसंद करते हैं | यह ब्लॉग 5 साल पहले मेरी माँ डॉ. मोनिका शर्मा ने बनाया था । अब मैं खुद अपने पोस्ट ब्लॉग पर शेयर करता हूँ । इस ब्लॉग पर मैं अपनी सारी बातें शेयर करूंगा |

Tuesday, July 1, 2014

कुछ रंग- बस यूँ ही …

     आज कुछ रंग- बस  यूँ ही । जैसा  देखा सोचा वैसा ही उकेर दिया ।



घर से निकला 

बारिश आई, छाता खोला 

पार्क में खेला 

पार्क में झूला और दूसरे खेल 

 क्लासरूम में  बनाई एक ड्राइंग 

11 comments:

हिमकर श्याम said...

अरे वाह! चैतन्य ने तो बहुत अच्छी ड्राइंग बनाई है...बधाई और शुभकामनाएँ...

Dilbag Virk said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 03-07-2014 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1663 में दिया गया है
आभार

HARSHVARDHAN said...

आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन पूँजी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

Yashwant Yash said...


कल 04/जुलाई /2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
धन्यवाद !

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (04-07-2014) को "स्वप्न सिमट जाते हैं" {चर्चामंच - 1664} पर भी होगी।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Smita Singh said...

बढ़िया प्रस्तुति।

Prabhat Kumar said...

चैतन्य जी आपने जैसा देखा सोचा सच में वैसा ही उकेर दिया ऐसा गुण हर किसी में नहीं हो सकता। अच्छीे कला.......

सु..मन(Suman Kapoor) said...

अरे वाह ..बहुत छुन्दर छुन्दर तस्वीरें बनाई हैं आपने चैतन्य ..keep it up

Suman said...

वाकई चैतन्य सुन्दर चित्र है :)

Virendra Kumar Sharma said...

फटॉग्रफी में इसे ही सब्जेक्ट कहतें यहीं जिसका प्रदर्शन आपने कामयाबी से किया है चैतन्य नन्हे भाई साहब।

संजय भास्‍कर said...

सुन्दर चित्र है :) बढ़िया प्रस्तुति।

Post a Comment

There was an error in this gadget