चैतन्य शर्मा

My photo
मैं चैतन्य एक बहुत अच्छा बच्चा हूँ | मैं 9 साल का हूँ | मुझे ड्राइंग-कलरिंग करना बहुत पसंद है | मैं क्लास IV में पढ़ता हूँ और माँ को कभी परेशान नहीं करता | मुझे डांस करना बेहद पसंद है | स्कूल में मुझे सब बहुत पसंद करते हैं | यह ब्लॉग 5 साल पहले मेरी माँ डॉ. मोनिका शर्मा ने बनाया था । अब मैं खुद अपने पोस्ट ब्लॉग पर शेयर करता हूँ । इस ब्लॉग पर मैं अपनी सारी बातें शेयर करूंगा |

Friday, August 12, 2011

हैप्पी राखी ......!


रक्षाबंधन सबसे प्यारा त्योंहार ...

भाई -बहन ...सबसे प्यारा रिश्ता 



 सबको रक्षाबंधन के प्यारे त्योंहार की ढेर सारी बधाई .... हैप्पी राखी...! 

18 comments:

Sunil Kumar said...

रक्षाबंधन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें ..

S.N SHUKLA said...

MY Little friend Chaitany
रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

रक्षाबंधन की शुभ कामनाएँ चैतन्य बाबू !

DR. ANWER JAMAL said...

एक सुरक्षित समाज का निर्माण ही हम सब भाईयों की ज़िम्मेदारी है
बहनों की रक्षा से भी कोई समझौता नहीं होना चाहिए।

इसके बाद हम यह कहना चाहेंगे कि भारत त्यौहारों का देश है और हरेक त्यौहार की बुनियाद में आपसी प्यार, सद्भावना और सामाजिक सहयोग की भावना ज़रूर मिलेगी। बाद में लोग अपने पैसे का प्रदर्शन शुरू कर देते हैं तो त्यौहार की असल तालीम और उसका असल जज़्बा दब जाता है और आडंबर प्रधान हो जाता है। इसके बावजूद भी ज्ञानियों की नज़र से हक़ीक़त कभी पोशीदा नहीं हो सकती।
ब्लॉगिंग के माध्यम से हमारी कोशिश यही होनी चाहिए कि मनोरंजन के साथ साथ हक़ीक़त आम लोगों के सामने भी आती रहे ताकि हरेक समुदाय के अच्छे लोग एक साथ और एक राय हो जाएं उन बातों पर जो सभी के दरम्यान साझा हैं।
इसी के बल पर हम एक बेहतर समाज बना सकते हैं और इसके लिए हमें किसी से कोई भी युद्ध नहीं करना है। आज भारत हो या विश्व, उसकी बेहतरी किसी युद्ध में नहीं है बल्कि बौद्धिक रूप से जागरूक होने में है।
हमारी शांति, हमारा विकास और हमारी सुरक्षा आपस में एक दूसरे पर शक करने में नहीं है बल्कि एक दूसरे पर विश्वास करने में है।
राखी का त्यौहार भाई के प्रति बहन के इसी विश्वास को दर्शाता है।
भाई को भी अपनी बहन पर विश्वास होता है कि वह भी अपने भाई के विश्वास को भंग करने वाला कोई काम नहीं करेगी।
यह विश्वास ही हमारी पूंजी है।
यही विश्वास इंसान को इंसान से और इंसान को ख़ुदा से, ईश्वर से जोड़ता है।
जो तोड़ता है वह शैतान है। यही उसकी पहचान है। त्यौहारों के रूप को विकृत करना भी इसी का काम है। शैतान दिमाग़ लोग त्यौहारों को आडंबर में इसीलिए बदल देते हैं ताकि सभी लोग आपस में ढंग से जुड़ न पाएं क्योंकि जिस दिन ऐसा हो जाएगा, उसी दिन ज़मीन से शैतानियत का राज ख़त्म हो जाएगा।
इसी शैतान से बहनों को ख़तरा होता है और ये राक्षस और शैतान अपने विचार और कर्म से होते हैं लेकिन शक्ल-सूरत से इंसान ही होते हैं।
राखी का त्यौहार हमें याद दिलाता है कि हमारे दरम्यान ऐसे शैतान भी मौजूद हैं जिनसे हमारी बहनों की मर्यादा को ख़तरा है।
बहनों के लिए एक सुरक्षित समाज का निर्माण ही हम सब भाईयों की असल ज़िम्मेदारी है, हम सभी भाईयों की, हम चाहे किसी भी वर्ग से क्यों न हों ?
हुमायूं और रानी कर्मावती का क़िस्सा हमें यही याद दिलाता है।

रक्षाबंधन के पर्व पर बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं...

देखिये
हुमायूं और रानी कर्मावती का क़िस्सा और राखी का मर्म

: केवल राम : said...

आपको रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनायें .....!

Shah Nawaz said...

Raksha Bandhan ki Dheron Shubhkaamnaaen!

गगन शर्मा, कुछ अलग सा said...

परिवार सहित खुश रहिए

manoj said...

happy rakshabandhan :)

Akshitaa (Pakhi) said...

रक्षाबंधन पर्व पर खूब बधाई !!

शिखा कौशिक said...

आपको भी रक्षाबंधन पर्व की हार्दिक शुभकामनायें .अगली पोस्ट में ये जरूर बताना कि वहां विदेश में यह पर्व भारतीय कैसे मानते हैं ?

कविता रावत said...

भाई-बहन के इस पावन पर्व राखी की आपको भी हार्दिक शुभकामनाएं!

Manish Kr. Khedawat said...

happy rakhi :)

Kailash C Sharma said...

रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं !

प्रवीण पाण्डेय said...

आपको बहुत शुभकामनायें।

Rakesh Kumar said...

रक्षाबन्धन और स्वतंत्रता दिवस की प्यारे चैतन्य को हार्दिक शुभकामनाएँ.

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

प्रिय चैतन्य जी . डॉ मोनिका जी आप सब को ढेर सारी शुभकामनाएं इस पावन पर्व रक्षाबंधन पर -
बहुत खूबसूरत लाजबाब छवियाँ और प्रेम ...
भ्रमर५

शालिनी कौशिक said...

चैतन्य आपको रक्षा बंधन और स्वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत शुभकामनायें

दीनदयाल शर्मा said...

प्रिय चैतन्य.....आप सब को रक्षाबंधन और स्वतंत्रता दिवस, 2011 की बहुत-बहुत बधाई...

Post a Comment

There was an error in this gadget