चैतन्य शर्मा

My photo
मैं चैतन्य एक बहुत अच्छा बच्चा हूँ | मैं 9 साल का हूँ | मुझे ड्राइंग-कलरिंग करना बहुत पसंद है | मैं क्लास V में पढ़ता हूँ और माँ को कभी परेशान नहीं करता | मुझे डांस करना बेहद पसंद है | स्कूल में मुझे सब बहुत पसंद करते हैं | यह ब्लॉग 5 साल पहले मेरी माँ डॉ. मोनिका शर्मा ने बनाया था । अब मैं खुद अपने पोस्ट ब्लॉग पर शेयर करता हूँ । इस ब्लॉग पर मैं अपनी सारी बातें शेयर करूंगा |

Sunday, August 14, 2011

झंडा ऊंचा रहे हमारा...!


विजयी विश्व तिरंगा प्यारा,
झंडा ऊंचा रहे हमारा।
हमारे तिरंगे के सम्मान में लिखा गया यह गीत जब भी सुनाई देता है, रोम-रोम पुलकित  हो जाता है, हर भारतीय का दिल इसके प्रति श्रद्धा विभोर हो उठता है। पर इस गीत की रचना किसने की यह शायद बहुत से लोगों को मालूम  नहीं है। इसी के बारे में जानकारी देती आज की यह प्यारी सी  पोस्ट गगन शर्मा अंकल के ब्लॉग कुछ अलग सा  से है 

स राष्ट्रीय झंडा गीत के रचनाकार थे स्वर्गीय श्री श्याम लाल गुप्त। इनका जन्म कानपुर के नरवल गांव में 16 सितंबर 1893 को हुआ था। इनके पिता का नाम श्री विश्वेश्वर गुप्त तथा माता का नाम कौश्लया देवी था। परिवार के आर्थिक संकट से जूझने  के कारण श्याम लालजी बचपन से ही पढाई के साथ-साथ पिता का हाथ भी बटाया करते थे। बड़े होने के साथ-साथ इनका रुझान पत्रकारिता की ओर होता चला गया और इनकी देश भक्ति से ओत-प्रोत कविताएं तथा लेख अखबारों इत्यादि में छपने लगे जो काफी लोक प्रिय भी होते चले गये। इसी के कारण धीरे-धीरे नेताओं का ध्यान इनकी ओर गया और श्री गणेश शंकर विद्यार्थीजी की प्रेरणा से ये कांग्रेस के सक्रीय कार्यकर्ता बन गये और अपनी मेहनत और लगन के सहारे 1920 में फतेहपुर जिला कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर पहुंच गये।उस समय तक कोई झंड़े को सम्मान देने वाला ऐसा गीत नहीं बन पाया था जिसे सुन मन उद्वेलित हो सके। गणेश शंकरजी इनकी प्रतिभा से बहुत प्रभावित थे सो उन्होंने ही इन्हें कोई ऐसा गीत लिखने की जिम्मेदारी सौंप दी जो सीधा दिल तक पहुंचे। श्याम लालजी के सामने बहुत बड़ी चुनौती  थी। काफी मेहनत और लगन से आखिर उन्होंने गीत लिखा। उसे बड़े-बड़े नेताओं ने सुना, पढा और उन सब के अनुमोदन के बाद उसे गांधीजी को दिखाया गया उन्होंने गीत को कुछ छोटा करने का परामर्श दे इसे झंडा गीत बनने का गौरव प्रदान कर दिया।फिर तो यह गीत सार्वजनिक सभाओं, जुलूस , प्रभात फेरियों के अवसर पर गाया जाने लगा और जब 1938 में हरिपुरा के ऐतिहासिक कांग्रेस के अधिवेशन के अवसर पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस के ध्वजारोहण करते ही वहां पांच हजार लोगों ने देश के सभी महत्वपूर्ण नेताओं की उपस्थिति में भाव-विभोर हो इसे गाया तो इसे राष्ट्रीय झंड़ा गीत होने का गौरव भी मिल गया।

पूरा गीत इस प्रकार है :-


विजयी विश्व तिरंगा प्यारा,
झंडा ऊंचा रहे हमारा।
सदा शक्ति सरसानेवाला
वीरों को हर्षानेवाला
मातृभूमि का तन-मन-सारा
झंडा ऊंचा रहे हमारा।
लाल रंग भारत जननी का,
हरा अहले इस्लाम वली का,
श्वेत सभी धर्मों का टीका,
एक हुआ रंग न्यारा-न्यारा
झंडा ऊंचा रहे हमारा।
है चरखे का चित्र संवारा,
मानो चक्र सुदर्शन प्यारा,
हरे देश का संकट सारा,
है यह सच्चा भाव हमारा,
झंडा ऊंचा रहे हमारा।
इस चरखे के नीचे निर्भय,
होवे महाशक्ति का संचय,
बोलो भारत माता की जय,
सबल राष्ट्र है ध्येय हमारा
झंडा ऊंचा रहे हमारा।
आओ प्यारे वीरो आओ,
राष्ट्र ध्वज पर बलि-बलि जाओ
एक साथ सब मिल कर गाओ
प्यारा भारत देश हमारा,
झंडा ऊंचा रहे हमारा।
शान ना इसकी जाने पाए
चाहे जान भले ही जाए
विश्व विजय कर के दिखलाये
तब होवे प्रण पूर्ण हमारा
झंडा ऊंचा रहे हमारा।

सभी देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें ....... हमारे वीर शहीदों को नमन .....जय हिंद।

28 comments:

विजयपाल कुरडिया said...

JAI HIND

Maheshwari kaneri said...

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें ....... जय हिन्द जय भारत जय भारत के नौनिहालो...

सैयद | Syed said...

जानकारी बांटने का बहुत शुक्रिया...

...स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें.

डॉ० डंडा लखनवी said...

हम सब आपकी पीठ थपथपाएं ।
स्वतंत्रता-दिवस की मंगल-कामनाएं॥
जय हिन्द! जय भारत! जय जवान! जय किसान!!

डॉ० डंडा लखनवी said...

हम सब आपकी पीठ थपथपाएं ।
स्वतंत्रता-दिवस की मंगल-कामनाएं॥
जय हिन्द! जय भारत! जय जवान! जय किसान!!

: केवल राम : said...

एक जानकारी भरा लेख हम सब के साथ साँझा करने के लिए आपका आभार .....!

प्रतुल वशिष्ठ said...

आपके राष्ट्रीय-विचारों को पढ़कर मन कह उठा ........ 'बच्चों, तुम तस्वीर हो, कल के हिन्दुस्तान की.'
चैतन्य जी के नाम से बाल-मन की झलक करवाता ये ब्लॉग... मासूमियत और दिव्य-संस्कारों का पुञ्ज लगता है... यहाँ आते ही एक मिठास का अनुभव होता है.. नासिका न जाने कैसे एक सुगंध को पकड़ लेती है... जो बालकों में स्वाभाविक रूप से मौजूद रहती है.... आनंद आया... आज के राष्ट्रीय-पर्व पर इस 'झंडा-गान' में.

chirag said...

HINDUSTAAN KI SHAAN TIRANGAA
BOLO JAI HIND
happy Independence day
JAI HIND....

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!
HAPPY INDEPENDENCE DAY!

Vijai Mathur said...

स्वाधीनता दिवस की हार्दिक मंगलकामनाएं।

some unspoken words said...

happy independence day .jai hind

Kunwar Kusumesh said...

स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें.

Er. Diwas Dinesh Gaur said...

आपको स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं...यह दिन हमारे लिए सच में महत्वपूर्ण है, किन्तु अब इससे भी और अधिक महत्वपूर्ण दिवस की प्रतीक्षा है| बस इसी प्रयास के साथ आपको फिर से ढेरों बधाइयां एवं शुभकामनाएं|

Dr Varsha Singh said...

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें .

प्रवीण पाण्डेय said...

आपको बहुत शुभकामनायें।

Babli said...

आपको एवं आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

रेखा said...

स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनायें

G.N.SHAW said...

स्वतंत्रता दिवस की बधाई

जयकृष्ण राय तुषार said...

मेरे नन्हें दोस्त जय हिंद स्वतंत्रता दिवस की आपको बधाई और शुभकामनाएं |

जयकृष्ण राय तुषार said...

मेरे नन्हें दोस्त जय हिंद स्वतंत्रता दिवस की आपको बधाई और शुभकामनाएं |

Ravi Keshri said...

Happy Independence Day... to my fellow little blogger..

Jai Hind

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

प्रिय चैतन्य ये गीत लगा आप ने जान डाल दी है जोश जगा दिया है आओ सब मिल इस के एक एक शब्द पर डट जाएं न्योछावर हो जाएँ देश पर --
भ्रमर ५

शान ना इसकी जाने पाए
चाहे जान भले ही जाए
विश्व विजय कर के दिखलाये
तब होवे प्रण पूर्ण हमारा
झंडा ऊंचा रहे हमारा।

Babli said...

You are welcome at my new posts-
http://urmi-z-unique.blogspot.com/
http://amazing-shot.blogspot.com

निवेदिता said...

जय हिन्द!!!

NEELKAMAL VAISHNAW said...

नमस्कार....
बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें
मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में पलकें बिछाए........
आपका ब्लागर मित्र
नीलकमल वैष्णव "अनिश"

इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्

1- MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

2- BINDAAS_BAATEN: रक्तदान ...... नीलकमल वैष्णव

3- http://neelkamal5545.blogspot.com

Suman said...

नन्हे दोस्त,
इतनी बढ़िया जानकारी के लिये धन्यवाद !
वैसे आपके ब्लॉग पर आने में मुझे कुछ वक्त लग रहा है
सॉरी ....... आजकल मेरा कम्प्यूटर बीमार चल रहा है :(

Anil Avtaar said...

Shyamlal Gupta ko hardik naman aur aapko 15 august ki hardik shubhkamnayein...

श्रीप्रकाश डिमरी /Sriprakash Dimri said...

प्रिय नन्हे मित्र चैतन्य ..आपको बहुत बहुत शुभ कामनाएं ...विजयी विश्व तिरंगा प्यारा झंडा ऊँचा रहे हमारा....जय हिंद

Post a Comment

There was an error in this gadget