चैतन्य शर्मा

My photo
मैं चैतन्य- 14 साल का हूँ | मुझे कार्टून बनाना और कोडिंग करना बहुत पसंद है | मैं क्लास X में पढ़ता हूँ | यह ब्लॉग 12 साल पहले मेरी माँ डॉ. मोनिका शर्मा ने बनाया था । अब मैं खुद अपने पोस्ट मेरे इस ब्लॉग पर शेयर करता हूँ ।

Tuesday, July 1, 2014

कुछ रंग- बस यूँ ही …

     आज कुछ रंग- बस  यूँ ही । जैसा  देखा सोचा वैसा ही उकेर दिया ।



घर से निकला 

बारिश आई, छाता खोला 

पार्क में खेला 

पार्क में झूला और दूसरे खेल 

 क्लासरूम में  बनाई एक ड्राइंग 

11 comments:

Himkar Shyam said...

अरे वाह! चैतन्य ने तो बहुत अच्छी ड्राइंग बनाई है...बधाई और शुभकामनाएँ...

दिलबागसिंह विर्क said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 03-07-2014 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1663 में दिया गया है
आभार

HARSHVARDHAN said...

आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन पूँजी और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

Yashwant R. B. Mathur said...


कल 04/जुलाई /2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
धन्यवाद !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (04-07-2014) को "स्वप्न सिमट जाते हैं" {चर्चामंच - 1664} पर भी होगी।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Unknown said...

बढ़िया प्रस्तुति।

प्रभात said...

चैतन्य जी आपने जैसा देखा सोचा सच में वैसा ही उकेर दिया ऐसा गुण हर किसी में नहीं हो सकता। अच्छीे कला.......

सु-मन (Suman Kapoor) said...

अरे वाह ..बहुत छुन्दर छुन्दर तस्वीरें बनाई हैं आपने चैतन्य ..keep it up

Suman said...

वाकई चैतन्य सुन्दर चित्र है :)

virendra sharma said...

फटॉग्रफी में इसे ही सब्जेक्ट कहतें यहीं जिसका प्रदर्शन आपने कामयाबी से किया है चैतन्य नन्हे भाई साहब।

संजय भास्‍कर said...

सुन्दर चित्र है :) बढ़िया प्रस्तुति।

Post a Comment