चैतन्य शर्मा

My photo
मैं चैतन्य एक बहुत अच्छा बच्चा हूँ | मैं 12 साल का हूँ | मुझे ड्राइंग-कलरिंग करना बहुत पसंद है | मैं क्लास VIII में पढ़ता हूँ और माँ को कभी परेशान नहीं करता | मुझे डांस करना बेहद पसंद है | स्कूल में मुझे सब बहुत पसंद करते हैं | यह ब्लॉग 10 साल पहले मेरी माँ डॉ. मोनिका शर्मा ने बनाया था । अब मैं खुद अपने पोस्ट ब्लॉग पर शेयर करता हूँ । इस ब्लॉग पर मैं अपनी सारी बातें शेयर करूंगा |

Monday, February 14, 2011

प्यार के दिन की प्यारी क्लास .......


यूं  तो हर दिन ही प्यार से रहने के लिए होता है पर वैलेन्टाइन डे को खास तौर पर प्यार के दिन के रूप में मनाया जाता है | वैसे मेरे लिए यह दिन बहुत खास रहा क्योंकि आज के दिन स्कूल में हमारी खास क्लास हुई |

हम सब बच्चों ने अपने अपने ममा पापा  के लिए सुंदर कार्ड्स बनाये | कुछ क्राफ्ट वर्क भी किये | मुझे आज पहली बार ही इस दिन के बारे में पता चला | मैं अपने सारे क्लास फ्रेंड्स के लिए गिफ्ट लेकर गया | वो सब भी मेरे लिए गिफ्ट लाये | हमारी टीचर  मिस मैलिनी ने भी  हम सब बच्चों को गिफ्ट दिया | उनकी मदद से ही हम सबने क्राफ्ट वर्क किया |




मेरे दोस्त मनराज का गिफ्ट......
 
 टीचर मिस मैलिनी ने दी यह हार्ट शेप कुकी.....


 ब्रांडन  ने दी है यह क्यूट रैबिट चोकलेट ...... 

ममा पापा के लिए बनाया गिफ्ट ....... और कार्ड



बहुत सारे गिफ्ट्स मिले हैं .....इसलिए आप  सबके  साथ भी बाँट रहा हूं.......ढेर सारी शुभकामनाओं के साथ....


33 comments:

संजय भास्‍कर said...

प्रेम दिवस पर बहुत बढ़िया ! चित्र भी क्या खूब लगाया है

संजय भास्‍कर said...

प्रेमदिवस की शुभकामनाये !

एक बेहद साधारण पाठक said...

प्रिय चैतन्य
मेरे दोस्त ..... दिल खुश हो गया
हाँ ..... वैसे तो इस कथित प्रेम दिवस का इतिहास कभी प्रमाणिक नहीं रहा है लेकिन अगर मात्र पितृ "पूजन" [ बेसिक मतलब प्रेम और सम्मान ही है ] दिवस या ऐसा ही कुछ मान कर चलें रहे हैं तो मैं तो भाई चैतन्य के साथ हूँ

~~~~~ हैप्पी वेलेंटाइन डे ~~~~~~
ढेर ..... ढेर सारा स्नेह और आशीर्वाद
गौरव भैया
और ये पढना
http://www.bhaskar.com/2010/02/16/100216100913_285869.html

निर्मला कपिला said...

अरे! नानी का कार्ड कहाँ गया? बहुत सुन्दर कार्ड बनाये हैं। आशीर्वाद।

एक बेहद साधारण पाठक said...

ये रीसेंट न्यूज है ......
http://www.dailypioneer.com/316627/Pitru-Matru-Pujan-Divas-on-Valentines-Day.html

एक बेहद साधारण पाठक said...

और हाँ ...... ये सभी सुन्दर गिफ्ट हम सब से शेयर करने के लिए थेंक्स :)

Aditya Tikku said...

Acha priyas-*

यशवन्त माथुर (Yashwant Raj Bali Mathur) said...

Great Work Chaitanya!!!

Keep it up My Sweet Heart:D!

With Love-

मुकेश कुमार सिन्हा said...

Happy valentine's day beta........:)
thora late ho gaya...aage se aate rahunga..:)

ज्ञानचंद मर्मज्ञ said...

चैतन्य बेटे ,
जीवन में इसी तरह प्यार बाँटते रहो !
प्यार जितना लुटावोगे यह उतना ही बढ़ता जाएगा !
मेरा ढेर सारा प्यार !

Shikha Kaushik said...

bahut sundar gifts aur unse pyare aapke bhav unke prati.bahut khoob

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति said...

बहुत प्यारे गिफ्ट मिले चैतन्य बेटे को... अरे हम भी देते आपको... पर आप दूर है... हमारी दिल से शुभकामनाये ... यही हम आपको भेज रहे है... चैतन्य ..

Minakshi Pant said...

बहुत खुबसूरत गिफ्ट मिले आपको तो और हमें तो कुछ भी नहीं मिला दोस्त चलो कोई बात नहीं हम तो आके प्यारे - प्यारे उपहार देख कर ही खुश हो गये | आपको हमारी तरफ से भी बहुत सारा प्यार हर रोज़ और हमेशा |
God bless u dear .
YOU R SOOOOOOO SWEET

केवल राम said...

वाह सुंदर है सब कुछ ...आपकी तरह .....

Dr. Zakir Ali Rajnish said...

बहुत सुंदर कार्डस और गिफ्टस।

---------
अंतरिक्ष में वैलेंटाइन डे।
अंधविश्‍वास:महिलाएं बदनाम क्‍यों हैं?

Shalini kaushik said...

chaitanya hamare gift kahan hain ve bhi to dikhao.bahut achchhi post..

प्रकाश गोविंद said...

वाह चैतन्य
कितने सुन्दर सुन्दर कार्ड्स
दिल खुश हो गया इन्हें देखकर
आप भी बस यूँ ही खुश रहिये


''मिलिए रेखाओं के अप्रतिम जादूगर से.....'

amit kumar srivastava said...

may god bless you beta...love.

वीरेंद्र सिंह said...

भई आपका का तो मज़ा आ गया....हा---हा--हा--हा..
वैसे हमे तो आपकी ख़ुशी का अंदाजा लगाकर ही आपसे ज़्यादा मज़ा आ रहा है। GOD BLESS YOU.....N...STAY HAPPY.

प्रवीण पाण्डेय said...

क्या कार्ड बनाया है, वाह।

रावेंद्रकुमार रवि said...

सब कुछ बहुत बढ़िया!

ममता त्रिपाठी said...

चैतन्य बेटा बहुत अच्छा............................शोभनम्.................सुन्दरम्

कुमार राधारमण said...

ऐसे ही गिफ्टों को बेहतर बना कर प्रजेंट करने की आदत डालो भाई अन्यथा बड़े होने पर बिक जाओगे!

राज भाटिय़ा said...

चैतन्य यार आज पता चला तुझे हेमा मैलिनी पढाती हे :)मेरा तोहफ़ा कहां हे भाई?तेरा कुर्ता ओर तेरे बाल मुझे अपने बचपन की याद दिला देते हे....

Mukesh said...

चैतन्य आपको तो बहुत से उपहार मिल गये।
हम भी आपको उपहार देगें जब आपका जन्मदिन आयेगा।
बहुत सुन्दर है तुम्हारा ब्लॉग
और उससे भी सुन्दर है तुम्हारी यहाँ
इस मञ्च पर उपस्थिति
अभी से उड़ान प्रारम्भ कर दी है
बहुत दूर तक जाओगे बेटा।
बस ऐसे ही
लिखते रहना
रचते रहना
और हमारे साथ बने रहना।
आपकी फोटो भी बहुत ही सुन्दर हैं।

अच्छा लगा आपको यहाँ देखकर,

बहुत प्रतिभासम्पन्न हो
पूत के पाँव पालने में ही दिख जाते है।.....................................................आखिर नाम भी तो है आपका "चैतन्य"


स्नेह एवं शुभाशीर्वाद
माँ-पिताजी को नमन कहना।

Saba Akbar said...

ह्म्म्म ... और हमारा गिफ्ट... ?

नाईस क्रियेटिविटी :)

सच बोले तो ...... said...

Bahut badhiya...Chaitanay...Itne saare Gifts...

Gifts to apko hum bhi dete Bhaai ...lekin mazboori hai ki kaise den....Isiliye aapko dher saara pyaar bhej rahe hain.....Khush raho....

Sada..Muskraate raho mere Bhaai.

abhi said...

ऐ चैतन्य बच्चा लाल सुनो...बड़े होने के बाद भी वैलेंटाइन डे पे माँ-पापा को ही गिफ्ट देना..किसी और को नहीं, बच्चे अभी नहीं समझोगे मेरा ये कमेन्ट...बड़े होने के बाद पढ़ लेना...समझ आ जाएगा...समझे :) हा हा

और अभी समझने वाला कमेन्ट -
सो क्यूट :) :)

गौरव शर्मा "भारतीय" said...

भाई चैतन्य जी,
मै आज बड़ी दुविधा में हूँ और मै समझ नहीं पा रहा हूँ की क्या टिपण्णी करूँ {मेरा ब्लॉग पढने से आप यह अवश्य समझ जायेंगे की मै क्यों दुविधा में हूँ}
बहरहाल आप तो बस अभी ढेर सारे उपहारों के साथ मजा कीजिये रहा सवाल वेलेंटाइन डे का तो उसकी चिंता हम कर लेंगे...शुभाशीष !!

Patali-The-Village said...

वाह! क्या कार्ड बनाया है|
ढेर सारा स्नेह और आशीर्वाद|

Akshitaa (Pakhi) said...

ढेर सारे गिफ्ट...अच्छे लगे..बधाई.
______________________________
'पाखी की दुनिया' : इण्डिया के पहले 'सी-प्लेन' से पाखी की यात्रा !

दिगम्बर नासवा said...

ये तो बहुत मजेदार GIFTS हैं ...

Unknown said...

आज प्रत्येक व्यक्ति वास्तविकता से काफी दूर है। जिस सच्चे प्यार के रंगोँ से मैंनें मोहब्बती-इन्द्रधनुष को अंजाम दिया, दुनिया उसे जिस्म का धुआँ कहकर भागती है। शायद प्रेम के किसी काल्पनिक बन्धन को अटूट धागे से बाँध पाना काफी कठिन है। उस वक्त मैं प्रत्यक्ष दृष्टा होता तो शायद ढेर सारी तारीफ करता। आपके कार्डस काबिल-ए-तारीफ हैं।
आपको बहुत बहुत धन्यवाद, अपने माता जी को 'सादर प्रणाम' देना।

Post a Comment